Magazine

English Hindi

Index

Polity

Governance & Social Justice

International Relations

Economy

Human Development

वर्ल्ड वाइड एजुकेशन फॉर फ्यूचर इंडेक्स 2019, विश्व में भारत की 35वीं रैंकिंग

Worldwide Educating for the Future Index 2019, India ranked 35th in the world

प्रासंगिकता:

  • जीएस 2 || शासन और सामाजिक न्याय || मानव विकास || शिक्षा

चर्चा में क्यों?

  • द इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत ने फ्यूचर इंडेक्स (WEFFI) 2019 के लिए वर्ल्डवाइड एजुकेटिंग में 35वां स्थान हासिल किया है।
  • इस वर्ष, भारत ने 53 स्कोर हासिल किया। वहीं, वर्ष 2018 में इन्हीं श्रेणियों में 41.2 के समग्र स्कोर के साथ भारत 40वें स्थान पर था।
  • इस रैंकिंग में स्वीडन पहले स्थान पर है उसके बाद फिनलैंड का नंबर आता है।

फ्यूचर इंडेक्स के लिए वर्ल्डवाइड एजुकेटिंग

  • इस सूचकांक (इंडेक्स) और रिपोर्ट को येडान प्राइज फाउंडेशन (Yidan Prize Foundation) द्वारा प्रस्तुत किया जाता है।
  • तेजी से बदलते परिदृश्य में कार्य और बेहतर जीवनयापन के लिये छात्रों को तैयार करने में शिक्षा प्रणालियों की प्रभावशीलता का आकलन करने हेतु इसे विकसित किया गया था।
  • यह शिक्षा प्रणालियों के लिए इनपुट का मूल्यांकन करने वाला पहला व्यापक वैश्विक सूचकांक है, बजाय आउटपुट जैसे टेस्ट स्कोर और 35 अर्थव्यवस्थाओं में 15-24 आयु बैंड पर ध्यान केंद्रित करता है।
  • WEFFI कौशल-आधारित शिक्षा के साथ छात्रों को लैस करने की उनकी क्षमताओं के आधार पर देशों को रैंक करता है।
  • रैंकिंग तीन श्रेणियों पर आधारित है
    • नीति का वातावरण
    • शिक्षण का माहौल
    • कुल मिलाकर सामाजिक-आर्थिक परिवेश
  • रिपोर्ट महत्वपूर्ण सोच, समस्या-समाधान, नेतृत्व, सहयोग, रचनात्मकता और उद्यमशीलता के साथ-साथ डिजिटल और तकनीकी कौशल जैसे क्षेत्रों में कौशल-आधारित शिक्षा के दृष्टिकोण से शिक्षा प्रणाली का विश्लेषण करती है।
  • दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में, अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और रूस चीन, भारत और इंडोनेशिया के सूचकांक में वापस आ गए हैं और इंडोनेशिया ने कदम आगे बढ़ा दिए हैं।

विकास के कारण

  • यह रिपोर्ट 2019 में शुरू की गई और प्रकाशित की गई नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लिए भारत की वृद्धि को दर्शाती है।
  • यह रिपोर्ट महत्वपूर्ण सोच, संचार और उद्यमशीलता जैसे भविष्य-उन्मुख कौशल पर फोकस करती है।
  • केंद्रीय बजट 2020 में ‘एस्पिरेशनल इंडिया’ के तहत नई शिक्षा नीति पर प्रकाश डाला गया है जिसका उद्देश्य प्रतिभावान शिक्षकों को आकर्षित करने के लिये वित्त की अधिक से अधिक प्राप्ति, नई प्रयोगशालाओं का निर्माण और नवाचार करना है।
  • इसके अलावा 150 उच्च शिक्षण संस्थानों में अप्रेंटिसशिप एम्बेडेड डिग्री या डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के साथ डिग्री स्तर के पूर्ण-ऑनलाइन शिक्षा कार्यक्रम शुरू करने का भी प्रस्ताव है, जो मार्च 2021 तक शुरू हो जाएगा।

एस्पिरेशनल इंडिया

  • यह केंद्रीय बजट 2020 के तीन प्रमुख विषयों में से एक है, अन्य दो आर्थिक विकास (सभी के लिए) और एक देखभाल करने वाले समाज का निर्माण किया जा रहा है।
  • एस्पिरेशनल इंडिया थीम के तहत, बजट में ग्रामीण भारत, पानी और स्वच्छता और शिक्षा शामिल है।

चुनौतियां

  • रिपोर्ट में उच्च शिक्षा प्रणाली के अंतरराष्ट्रीयकरण के अवसर का उपयोग करने के लिए भारतीय शिक्षा प्रणाली की अक्षमता पर प्रकाश डाला गया है।
  • एक अन्य चुनौती रिपोर्ट के अनुसार विकेंद्रीकृत शिक्षा प्रणाली है।
  • भावी कौशल विकास से संबंधित सुविचारित नीतिगत लक्ष्य अक्सर नीचे की ओर नहीं जाते हैं।

आगे का रास्ता

  • भारत को अपनी शिक्षा प्रणाली विकसित करनी चाहिए ताकि वह उच्च शिक्षा के लिए पसंदीदा स्थान बन जाए।

भारत में स्टडी प्रोग्राम को लेकर अतिरिक्त जानकारी

  • यह एक आकर्षक शिक्षा गंतव्य के रूप में भारत की ब्रांडिंग करके विदेशी छात्रों को लक्षित करने के प्राथमिक उद्देश्य के साथ मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत एक परियोजना है।
  • यह भारतीय शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत मेधावी विदेशी छात्रों को शुल्क छूट प्रदान करता है।

संदर्भ: