Magazine

English Hindi

Index

International Relations

Economy

Science & Technology

International Relations

यूएसए द्वारा तुर्की आउट ऑफ एफ - 35 कार्यक्रम

Turkey Out of F – 35 Programme by USA

उल्लेख: GS2 || अंतर्राष्ट्रीय संबंध || भारत और बाकी दुनिया || अमेरीका

खबरों में क्यों ?

  • रूस निर्मित S-400 वायु रक्षा प्रणाली की स्वीकृति के बाद तुर्की को अमेरिका ने F-35 संयुक्त स्ट्राइक फाइटर प्रोग्राम से हटाया और जिसके कारण तुर्की मार्च 2020 तक अपने जेट उत्पादन कार्य खो देगा।

  F-35 प्रोग्राम क्या था ?

  • लॉकहीड मार्टिन F-35 लाइटनिंग II एकल-सीट, एकल-इंजन, सर्वऋत्विक, गुप्त, पांचवीं पीढ़ी, मल्टीरोल लड़ाकू विमान की श्रेणी का है, जिसे जमीनी हमले और वायु-प्रधानता मिशन के लिए बनाया गया है।
  • इसे लॉकहीड मार्टिन ने बनाया है।

  • F-35 के विकास का वित्तपोषण मुख्यतः अमेरिका द्वारा किया जाता है। साथ ही अन्य नाटो सदस्यों और करीबी अमेरिकी सहयोगियों द्वारा अतिरिक्त धन का योगदान भी किया जाता है जिसमें यूनाइटेड किंगडम, इटली, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, नॉर्वे, डेनमार्क, नीदरलैंड और पूर्व में तुर्की भी शामिल था

प्रोग्राम से हटा तुर्की:

  • व्हाइट हाउस से ज्ञात हुए एक बयान में कहा गया है कि तुर्की के रूसी S-400 वायु रक्षा प्रणाली खरीदने के फैसले ने F-35 के साथ अपनी निरंतर भागीदारी को असंभव बना दिया है। F-35 एक रूसी खुफिया संग्रह मंच के साथ सह-अस्तित्व नहीं रख सकता है जिसका उपयोग F-35 की उन्नत क्षमताओं के बारे में जानने के लिए किया जाएगा।
  • अमेरिकी सीनेट ने 18 जून, 2018 को तुर्की को F-35 लड़ाकू विमान के हस्तांतरण को अवरुद्ध करने वाला एक विधेयक पारित किया।तुर्की की मंशा पर चिंताओं के कारण S-400 वायु रक्षा प्रणाली की खरीद पर निषेध स्थापित किया गया था जो कथित तौर पर एफ –35 के रहस्यों को खतरे में डाल देता|

आगे क्या?

  • अमेरिका के रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक सांसदों ने गुरुवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर एक रूसी मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद के लिए तुर्की पर यह कहते हुए प्रतिबंध लगाने का दबाव डाला, कि उन्हें रूस की सेना के साथ व्यापार करने के लिए दंडात्मक कानून का पालन करना चाहिए।

क्या तुर्की नाटो से बाहर हो गया?

  • नाटो से तुर्की को निष्कासित करने की आवाज़ रफ्तार पकड़ रही है क्योंकि अंकारा ने S-400 की सुपुर्दगी को स्वीकार करना शुरू कर दिया है।
  • पश्चिम के साथ तनाव के बावजूद, तुर्की का नाटो को छोड़ने का कोई इरादा नहीं।
  • सीरिया, कोसोवो और अफगानिस्तान में चल रहे मिशनों में तुर्की के योगदान की ओर इशारा करते हुए नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने कहा कि तुर्की अपनी S-400 खरीद के बावजूद गठबंधन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना रहेगा।