Magazine

English Hindi

Index

Economy

Economy

वित्तीय समावेशन क्या है? वित्तीय समावेशन की अंतिम चुनौतियां क्या हैं?

What is Financial Inclusion? What are the last mile challenges of Financial Inclusion?

प्रासंगिकता:

जीएस 3 || अर्थव्यवस्था || बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र || बैंकिंग सुधार

विषय: वित्तीय समावेशन क्या है? वित्तीय समावेशन की अंतिम चुनौतियां क्या हैं?

सुर्खियों में क्यों?

वित्तीय समावेशन, किफायती कीमतों पर समाज के बड़े वर्गों को बैंकिंग सेवाओं की डिलीवरी प्रदान करता है। भारत में अभी भी बैंकिंग प्रणाली से संबंधित कुछ चुनौतियां हैं, लेकिन सरकार नकद भुगतान से कैशलेस तक के पूरे भुगतान को डिजिटल बनाने की कोशिश कर रही है।

समझें वित्तीय समावेशन को:

वित्तीय समावेशन क्या है?

  • वित्तीय समावेशन, वित्तीय उत्पादों और सेवाओं को सभी व्यक्तियों और कंपनियों के लिए उपलब्ध और सस्ता बनाने के प्रयासों को संदर्भित करता है, फिर भले ही उनका व्यक्तिगत निवल मूल्य या व्यावसायिक आकार कुछ भी क्यों न हो।
  • वित्तीय समावेशन का उद्देश्य उन बाधाओं को खत्म करना है जो व्यक्तियों को वित्तीय क्षेत्र में प्रवेश करने से रोकते हैं और इन सेवाओं का उपयोग करके अपने जीवन को बेहतर बनाते हैं। इसे समावेशी वित्त भी कहा जाता है।
  • वित्तीय समावेशन की मुख्य विशेषताएं:
  • वित्तीय समावेशन दुनिया की अधिकांश आबादी को रोजमर्रा की वित्तीय सेवाओं को उचित मूल्य पर उपलब्ध कराने का एक प्रयास है।
  • डिजिटल लेनदेन जैसे फिनटेक में हो रही प्रगति, वित्तीय समावेशन को आसान बना रही है।
  • हालांकि, विश्व बैंक का अनुमान है कि दुनिया भर के लगभग 1.7 बिलियन वयस्कों के पास अभी भी एक बुनियादी बैंक खाते तक पहुंच नहीं है।

वित्तीय समावेशन के उद्देश्य

  • वित्तीय समावेशन का उद्देश्य लोगों को किफायती कीमतों पर वित्तीय सेवाओं और उत्पादों को सुरक्षित रखने में मदद करना है, जैसे जमा, फंड ट्रांसफर सेवाएं, ऋण, बीमा, भुगतान सेवाएं आदि।
  • इसका उद्देश्य गरीब लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए उचित वित्तीय संस्थान स्थापित करना है। इन संस्थानों के पास स्पष्ट नियम होने चाहिए और इनकी एक जिम्मेदारी यह भी है कि ये वित्तीय उद्योग में मौजूदा उच्च मानकों को बनाए रखें।
  • वित्तीय समावेशन का उद्देश्य वित्तीय स्थिरता का निर्माण और रखरखाव करना है ताकि अभावग्रस्त लोगों के पास वह निश्चित धनराशि हो जिसे अर्जित करने के लिए वे संघर्ष करते हैं।
  • वित्तीय समावेशन ऐसे कई संस्थानों का लक्ष्य रखता है जो सस्ती वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं, ताकि पर्याप्त प्रतिस्पर्धा हो और ग्राहकों के पास चुनने के लिए बहुत सारे विकल्प हों। बाजार में पारंपरिक बैंकिंग विकल्प मौजूद हैं। हालांकि, सस्ते वित्तीय उत्पादों और सेवाओं की पेशकश करने वाले संस्थानों की संख्या बहुत ही कम है।
  • वित्तीय समावेशन का उद्देश्य समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के बीच वित्तीय सेवाओं के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है।
  • वित्तीय समावेशन की प्रक्रिया ऐसे वित्तीय उत्पाद बनाने की दिशा में काम करती है जो समाज के अभावग्रस्त लोगों के अनुरूप हों।
  • वित्तीय समावेशन का उद्देश्य राष्ट्र में वित्तीय साक्षरता और वित्तीय जागरूकता में सुधार करना है। वित्तीय समावेशन का उद्देश्य राष्ट्र के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए डिजिटल वित्तीय समाधान लाना है।
  • यह देश के अत्यंत दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले सबसे गरीब लोगों तक पहुंचने के लिए मोबाइल बैंकिंग या वित्तीय सेवाओं को प्रस्तुत करने का भी लक्ष्य रखता है।
  • इसका उद्देश्य गरीब लोगों को उनकी व्यक्तिगत वित्तीय स्थितियों, घरेलू जरूरतों, प्राथमिकताओं और आय स्तर के तदनुकूल और व्यक्ति-विशिष्ट वित्तीय समाधान प्रदान करना है।

वित्तीय समावेशन क्यों आवश्यक है?

  • कमजोर वर्ग तक पहुंच: वित्तीय सेवाओं तक पहुंच समाज के सबसे गरीब और सबसे कमजोर लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में सक्षम बनाती है और समाज में असमानता को कम करती है।
  • सामुदायिक विकास: वित्तीय समावेशन न केवल व्यक्तियों और परिवारों की मदद करता है, बल्कि सामूहिक रूप से यह पूरे समुदायों को विकसित करता है और आर्थिक विकास को चलाने में मदद कर सकता है। वित्तीय समावेशन लोगों और समुदायों को सक्षम और सशक्त बनाता है:
  • लोगों को उनके पैसे का प्रबंधन और बचत करने के लिए संबंधित क्षमता और उपकरण उपलब्ध कराना
  • सही वित्तीय निर्णय लेने के लिए कौशल और ज्ञान के साथ लोगों को सशक्त बनाना
  • वित्तीय प्रणाली में भागीदारी से कई प्रकार के व्यक्तिगत लाभ संबंधित होते हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:
  • एक व्यवसाय शुरू करने और उसे बढ़ाने की क्षमता, जो लोगों को सूक्ष्म वित्तपोषण योजनाओं के माध्यम से एक अवसर प्रदान करती है; उदाहरण के लिए दीर्घकालिक संभावनाओं को बेहतर करने के लिए।
  • बच्चों के लिए शिक्षा का भुगतान करने में सक्षम होना, जो बदले में शिक्षित और सूचित व्यक्तियों की नई पीढ़ी को भी सक्षम बनाता है।
  • अनिश्चितताओं से निपटने की क्षमता जिसके लिए तदर्थ और अप्रत्याशित भुगतान या ‘वित्तीय झटके’ की आवश्यकता होती है।
  • बैंकिंग प्रक्रिया तक पहुंच: एक खाते, बचत और एक भुगतान प्रणाली (जो कुछ भी हो सकता है) तक पहुंच के माध्यम से, वित्तीय समावेशन, संभावित पुरुषों, महिलाओं और पूरे समुदायों को सक्षम बनाता है। यह बदले में निम्नलिखित को प्रोत्साहित करता है:
  • समुदाय में निवेश रोजगार प्रदान करता है। इसके अलावा एक बार फिर किये गए शोध से पता चलता है कि रोजगार, जीवन के स्टेटस, आय और किसी के भी उसके प्रति दृष्टिकोण को बेहतर करता है। सामूहिक रूप से यह अर्थव्यवस्थाओं को मज़बूत करने में मदद करता है।
  • समुदाय और परिवारों में समानता सुनिश्चित होती है।

वित्तीय समावेशन से जुड़ी चुनौतियां:

  • वित्तीय समावेशन कार्यक्रम भारत सरकार का एक बहुत ही महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है। वास्तव में, इस कार्यक्रम की दशकों से आवश्यकता थी। FI (वित्तीय समावेशन) का उद्देश्य उन लोगों के लिए वित्तीय सेवाएं प्रदान करना है, जिन्हें सेवाओं की न्यूनतम औपचारिकताओं के साथ सस्ती कीमत पर ऐसी सेवाओं के बारे में अभी तक जानकारी नहीं है।
  • जैसा कि इसकी व्याख्या होती है, यह एक बहुत ही बोझिल और लंबी प्रक्रिया है और इसलिए इसमें कई चुनौतियां हैं। आइए हम इनमें से कुछ चुनौतियों को सूचीबद्ध करते हैं-
  • खराब मार्गदर्शन: जिनकी दैनिक आय बहुत अधिक नहीं है, वे वित्तीय रूप से शामिल होने की इच्छा नहीं रखते हैं। उन्हें मिलने वाले लाभों के बारे में उनका उचित मार्गदर्शन वांछनीय और बहुत चुनौतीपूर्ण है।
  • विशाल आबादी तक अभी भी पहुंच नहीं बन पायी है: ऐसे आर्थिक रूप से बहिष्कृत व्यक्तियों की आबादी बिखरी हुई है और कई बार इन तक पहुंचना बहुत मुश्किल होता है। यह उन्हें खोजने और फिर वित्तीय सेवाएं प्रदान करना मुश्किल बनाता है।
  • दैनिक अर्जक: ऐसे व्यक्ति दैनिक वेतन भोगी हो सकते हैं, इसलिए स्वाभाविक है कि वे दिन के समय में उपलब्ध नहीं हो सकते, और उन्हें काम के घंटों के बाद ढूंढना भी एक बड़ी चुनौती है।
  • निरक्षरता: आम तौर पर, वे अशिक्षित (अनपढ़) होते हैं, इसलिए उनकी उचित पहचान और इस तरह की सेवाओं की पेचीदगियों को उन्हें समझाना भी एक चुनौती भरा काम है।
  • बिचौलिया: ऐसे कई बिचौलिए या उनके गिरोह के नेता हैं जो उन्हें गलत मार्गदर्शन प्रदान करते हैं या उनसे अपना कट लेते हैं । ऐसे बिचौलियों से बचना भी एक चुनौती है।
  • बैंकों को कुछ साल पहले ऐसे व्यक्तियों के खाते खोलने के लिए अपने-अपने शाखाओं में बड़ी भीड़ देखने को मिली थी। बैंकों के सामने यह चुनौती थी कि वे अन्य ग्राहकों को सामान्य बैंकिंग सेवाएं तो प्रदान करें ही लेकिन साथ में ऐसे आर्थिक रूप से बहिष्कृत व्यक्तियों की मांगों को भी पूरा करें।

भारत में वित्तीय समावेशन योजनाएँ

  • भारत सरकार वित्तीय समावेशन के उद्देश्य से कई विशेष योजनाएं शुरू कर रही है। ये योजनाएं समाज के कम भाग्यशाली वर्गों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने का इरादा रखती हैं।
  • कई वित्तीय विशेषज्ञों और नीति निर्माताओं द्वारा बहुत सारे नियोजन और शोधों के बाद, सरकार ने वित्तीय समावेशन को ध्यान में रखते हुए योजनाएं शुरू कीं हैं। इन योजनाओं को विभिन्न वर्षों में शुरू किया गया है। आइए हम देश में चल रहे वित्तीय समावेशन की योजनाओं पर एक नज़र डालें:
  • प्रधानमंत्री जन धन योजना (PMJDY)
  • अटल पेंशन योजना (APY)
  • प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (PMVVY)
  • स्टैंड अप इंडिया स्कीम
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)
  • प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY)
  • सुकन्या समृद्धि योजना
  • जीवन सुरक्षा बंधन योजना
  • अनुसूचित जातियों (अनुसूचित जातियों) के लिए ऋण संवर्धन गारंटी योजना (CEGS)
  • सामाजिक क्षेत्र की पहल के तहत अनुसूचित जाति के लिए वेंचर कैपिटल फंड
  • वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना (VPBY)

भविष्य के लिए क्या संभावनाएँ हो सकती हैं?

  • वित्तीय समावेशन के समुचित कार्य के प्रति समर्पण: समावेशी विकास प्राप्त करने के दृष्टिकोण के साथ, सरकार, RBI और कार्यान्वयन एजेंसियों को, वित्तीय समावेशन को आगे बढ़ाने के तरीकों और उपायों को विकसित करने के लिए मन-बुद्धि को एकाग्र रखना आवश्यक है।
  • स्वतंत्र प्रौद्योगिकी समाधान: आज वृद्धि योग्य प्लेटफॉर्म-स्वतंत्र प्रौद्योगिकी समाधानों को विकसित करने और लागू करने की जरूरत है, जिन्हें अगर बड़े पैमाने पर लागू किया जाता है, तो संचालन की उच्च लागत में कमी आएगी। इस प्रकार, उचित और प्रभावी तकनीक ही वित्तीय समावेशन की कुंजी है ताकि त्वरित बड़े पैमाने पर विकास हो सके।
  • मौजूदा कार्यशैली का उन्नयन: भारत में बड़ी संख्या में घर और ग्रामीण आबादी बैंकिंग से बाहर है। वित्तीय समावेशन को, बैंकों और वित्तीय संस्थानों की मौजूदा कार्यशैली में सुधार और उन्नयन की संभावना के रूप में देखा जा सकता है।
  • वितरण तंत्र में सुधार: वितरण तंत्र और संचालन की मौजूदा संरचना में सुधार के लिए बैंकों के पास इस रूप में एक अवसर भी है। तामझाम वाले खातों के बिना बड़े पैमाने पर की जाने वाली बैंकिंग, बैंकों और ग्राहकों दोनों के लिए जीत की स्थिति बन सकती है। इतना ही नहीं वित्तीय संस्थान, विशेषकर बैंक, बैंक लिंकेज कार्यक्रमों के माध्यम से स्वयं सहायता समूहों के नामांकन में वृद्धि करके, वित्तीय समावेशन प्रक्रिया को गति प्रदान कर सकते हैं।
  • मोबाइल बैंकिंग प्रणाली: मोबाइल बैंकिंग, वित्तीय समावेशन के तेजी से विकास के लिए, लक्ष्यीकरण और गुणवत्ता में सुधार के लिए और अनछुए ग्राहकों तक सेवाओं के वितरण के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण हो सकता है। इस प्रकार, भविष्य में 100% वित्तीय समावेशन हासिल करने की संभावना दृढ़ हो जाती है।

समाधान:

  • MFI (माइक्रो फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस) को एकल नियामक RBI द्वारा निरीक्षित स्पष्ट नियमों के तहत कार्य करने की आवश्यकता होती है। लाभ के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र में, एमएफआई एक आश्वस्त, भरोसेमंद और स्थायी भूमिका निभा सकता है। इसलिए, हमारे देश में वित्तीय समावेशन विनियमन की आवश्यकता है।
  • वित्तीय समावेशन को मजबूरी के बजाय व्यावसायिक संभावना के रूप में लिया जाना चाहिए ताकि अप्रयुक्त और असंगठित बाजारों के दोहन और लक्ष्यीकरण द्वारा संभावित व्यापार अवसर का उपयोग किया जा सके।
  • RBI और वाणिज्यिक बैंकों को बुनियादी वित्तीय उत्पादों, सेवाओं और पेशकश के बारे में ग्राहकों को शिक्षित करने के लिए प्रशिक्षकों और पेशेवरों के साथ साझेदारी में एक समन्वित अभियान की योजना बनानी चाहिए।
  • ग्राहक जागरूकता के निर्माण के लिए e-बैंकिंग और m-बैंकिंग प्रशिक्षण और शिक्षा कार्यक्रम आयोजित किए जाने चाहिए।

निष्कर्ष:

पूर्ण वित्तीय समावेशन प्राप्त करने और समावेशी विकास के लिए, RBI , सरकार, NABARD और कार्यान्वयन एजेंसियों को अपने मन-बुद्धि को एकाग्र रखना होगा ताकि वित्तीय समावेशन को आगे बढ़ाया जा सके। हमारे देश में उचित वित्तीय समावेशन विनियमन होना चाहिए और SHG और MFI के माध्यम से वित्तीय सेवाओं तक पहुंच बनाई जानी चाहिए। इस प्रकार, वित्तीय समावेशन वह लंबा रास्ता है है जिसे भारत को, पूरी तरह से सफलता प्राप्त करने के लिए तय करना होगा।

मुख्य परीक्षा अभ्यास प्रश्न:

मजबूरी के बजाय, वित्तीय समावेशन को एक व्यावसायिक संभावना के रूप में लिया जाना चाहिए ताकि अप्रयुक्त और असंगठित बाजारों के दोहन और लक्ष्यीकरण द्वारा संभावित व्यावसायिक अवसरों का उपयोग किया जा सके। टिप्पणी करें। (250 शब्द)